…और मेरे नाई ने बड़ा ली 70% तक अपनी कमाई!
आज सवेरे कार्यालय के पीछे वाली दुकान पर मैं बाल कटवाने अपने पुराने नाई रमेश के पास गया। हर बार की तरह मैं पूछता ही हूं “अपनी कमाई बढ़ाने के लिए क्या क्या कर रहे हो? करोना से क्या फर्क है? आदि आदि…” और उसको कुछ कुछ सुझाता भी हूं।वह मेरा पक्का दोस्त बन गया है।
इस बार मैंने देखा उसने न केवल मेरे बाल काटे बल्कि अच्छी तरह सिर की मालिश की। फिर आधुनिक मशीन लाकर रखी हुई थी, उसका भी उपयोग किया और इस बार तो उसने पेमेंट लेने के लिए पेटीएम का क्यूआर कोड लगा दिया था।
मैंने पूछा “यह सारा क्यों किया?”
तो उसने कहा कि “इससे ग्राहक ज्यादा खुश रहता है और थोड़े पैसे भी अधिक दे जाता है।”
जब मैं चलने लगा तो मैंने पूछा “कितने पैसे दूं?” तो उसने कहा “100 रुपए”
पहले वह 80 लेता था और सात आठ महीने पहले तो ₹60 ही लेता था। तो उसने आधुनिक तकनीक अपनाई, थोड़ा मालिश करके ग्राहक को खुश किया थोड़ा अपना भी स्टाइल बनाया,अंग्रेजी टोपी आदि पहन कर। सामान्य भाषा में कहें तो अपना स्टैंडर्ड बढ़ाकर। उसने ₹60 वाले काम के ₹100 लेना शुरू कर दिया और मजे की बात यह है कि ग्राहक उसे ₹100 देकर भी खुश हैं।
मैंने उसे शाबाशी भी दी और कहा कि मैं चिट्ठी लिखकर बाकी लोगों को भी बताऊंगा कि अपनी कमाई और सेल में वृद्धि करनी है तो नए तरीके, नई तकनीक अपनाओ। ग्राहक खुश हुआ तो पैसे अधिक दे देगा।… “क्यों है न पते की बात!”~सतीश कुमार
नीचे:उसी अपने बाल काटने वाले दोस्त रमेश के साथ मैंने फोटो खिंचवाई,उसने बड़े स्टाइल में पोज दिया।