गिलहरियों ने इकट्ठे किए ₹11लाख!
स्वदेशी शोध संस्थान दिल्ली में बनने वाले भवन हेतु धन संग्रह अभियान जारी है।बड़ा धन संग्रह भी तीन करोड़ तक पहुंच गया है। किंतु बड़ी बात है,कि फोन माध्यम से हुए सूक्ष्म-लघु अर्थ संग्रह से, भी कल तक 11 लाख से अधिक की राशि आ चुकी है।इसमें कम से कम ₹21 आए हैं,तो 25000 भी आए हैं।
रामसेतु बनाने में जब हनुमान,नल, नील अंगद सब लगे तो,हम सब जानते हैं, एक गिलहरी भी समुद्र के पानी में अपने को भिगोकर रेत मैं लोटपोट होती और उसके काफी सारे कण लेकर वहां पुल के पास छोड़कर आती।
रामजी ने देखा तो पूछा “तेरे इस परिश्रम से राम सेतु का क्या बनेगा?”
तो कहते हैं गिलहरी ने कहा “मुझे मालूम है मेरे सहयोग से इसमें कोई फर्क नहीं पड़ना, पर जब भी राम जी के काम हेतु रामसेतु के बनने की चर्चा आएगी तो मेरा नाम भी सेतु बनाने वालों में हो, तटस्थ या उदास रहने वालों में न हो, इसलिए मैं यह प्रयत्न कर रही हूं।” राम जी ने आशीर्वाद देना ही था।
कुछ इसी भाव से हमने यह माइक्रो संग्रह की योजना की थी,जो सफल होती दिख रही है।~सतीश कुमार1
नीचे:भाग्यनगर (हैदराबाद) में हुई अखिल भारतीय समन्वय बैठक,जिसमें स्वावलंबी भारत अभियान की भी अछी चर्चा हुई, में सरसंघचालक जी, सरकार्यवाह जी व अन्य