प्रदीप जी व स्व:जा:मंच के अ:भा:सहसंयोजक सुंदरम् जी के साथ, त्रिवेन्द्रम में
आज वहाँ 5000संघशाखा हैं BMS,ABVP स्वदेशी, सेवाभारती सब है! है ही नहीं धमाकेदार हैं! त्रिवेन्द्रम कारपोरेशन मे कुल 100मे से 35भाजपा के हैं पालाघाट मे तो मेयर भी BJP कीचुनी गई है पहली बार! एक MLA भी है! इस बार 15.3%वोट मिला विधानसभा चुनाव में! वहाँ अमितशाह की इस घोषणा पर कि अगली सरकार हमारी होगी भाजपा के कार्यकर्ता ही नहीं आमजनता भी विश्वास करने लगी है! पर इसके पीछे कितना परिश्रम, त्याग व बलिदान लगा है, बताऊँ? सुनो!!
…कल केरल में सेवाकार्य मे रत प्रचारक प्रदीप जी से मैंने पूछा-“आप के ज़िम्मे काम क्या है?” वे बोले”अभी अपने 103 स्वयंसेवक जेलों मे हैं,उन्हें जेल मे जाकर मिलना, जेल अधिकारियों से बात करना, उनके परिवारों की केसों की चिन्ता करना..सब करता हूँ ।” कुल केरल की परिस्थिति बताओ?” मेरे कहने पर प्रदीप जी बोले “कम्युनिस्टों के आघातों से गत 24-25 वर्षों मे कुल 269बलिदान हो चुके हैं, 600से अधिक अगंभगं हैं,150 से अधिक केस चल रहे हैं पर परवाह नहीं केरल को हम भगवामय करके ही छोड़ेंगे!!” मैंने कहा कि झगड़े या बलिदान के बाद इलाक़े के लोग डर नहीं जाते? इस पर प्रदीपजी बोले “एक तो सबको पता है कि संघ के लोग देशभक्त हैं और कम्युनिस्ट विदेशी व हिसंक विचारों के वाहक, दूसरा हम एक-एक परिवार की चिन्ता करते हैं,तन-मन धन से करते हैं…आज तक कोई परिवार हमें छोड़ कर नहीं गया..” सारा देश जब साथ है तो क्या चिन्ता?
..जिस भूमि को कभी स्वामी विवेकानंद ने पागलों की भूमि कहा था(छूआछूत के कारण) आज उसी को सुजला सुफला बनाने मे निकले हैं स्वयंसेवक,प्रदीप जी जैसे 100से अधिक प्रचारक…धन्य हुई भारत जननी ऐसे सपूतों को पाकर..