कश्मीरी लाल जी का प्रवास हिमाचल में चल रहा है! ऊना में श्रद्धेय दत्तोपंत ठेंगड़ी जी को श्रद्धांजलि,व व्याख्यान देते हुए.. दूसरे चित्र में चेन्नई कार्यालय में प्रचारक बंधुओं के साथ!
आज चेन्नई में मुझे वहां के संघ कार्यालय प्रमुख ने 1993 में हुए बम धमाके के बारे में विस्तार से जानकारी दी! 8 अगस्त 1993 को इस्लामी जिहादियों ने एक सूटकेस में बम रखकर चेन्नई के संघ कार्यालय को उड़ा दिया! उन दिनों रामजन्मभूमि का विषय चल रहा था!
उसमें कार्यालय प्रमुख काशी नाथ जी सहित चार प्रचारक व 7 अन्य बंधु\भगिनी शहीद हो गए!
दूसरी बात उन्होंने बतायी “तब की मुख्यमंत्री जयललिता अगले दिन कार्यालय पर आईं!” और सारा हाल देखने के बाद उन्होंने घोषणा कर दी “संघ कार्यालय के पुनर्निर्माण के लिए जितना भी आवश्यक धन होगा तमिलनाडु की सरकार देगी!”
किंतु जब सरकार्यवाह शेषाद्री जी वहां आए तो उन्होंने एक पत्र तमिलनाडु सरकार के नाम लिखा!
धन्यवाद देते हुए लिखा “संघ की परंपरा में सरकार से पैसा लेना नहीं है! आपने संवेदना व्यक्त की, धन्यवाद! हमें पैसा नहीं चाहिए तमिलनाडू में ऐसी आतंकी गतिविधियां पुन: न हो आप ऐसी व्यवस्था कर दें, हमारे लिए इतना पर्याप्त है!”
जब प्रांतीय अधिकारी,चीफ सक्रेटरी को वह पत्र देने पहुंचे तो वह हैरान था और बोला “मेरे 40 वर्ष के ब्यूरोक्रेटिक जीवन में यह पहली बार हो रहा है,कि कोई कह रहा है कि हमें धन नहीं चाहिए! अन्यथा यहां तो अलग अलग तरीके अपनाकर पैसा लेने के लिए लोग आते हैं!” आज वहां एक बड़ा ,अच्छा व व्यवस्थित कार्यालय खड़ा है!
यही है अपनी परंपरा!फिर जब मैं प्रांत प्रचारक रवि कुमार जी से मिला तो पता चला,वह पांच भाई हैं!दो प्रचारक हैं!एक प्रांत प्रचारक दूसरे क्षेत्र के विश्व हिंदू परिषद के संगठन मंत्री!तीसरे बड़े भाई दक्षिण प्रांत के सहसंघचालक!दो अन्य भी स्वयंसेवक हैं! ऐसे ही संकल्पवान स्वयंसेवक परिवारों की तपस्या से तमिलनाडु की हिंदुत्व विरोधी भूमि में भी आज संघ और परिवार संगठन तेजी से बढ़ रहे हैं !और सब तरफ भगवा लहराने की तैयारी हो रही है!इस बार स्वदेशी जागरण मंच का अखिल भारतीय सम्मेलन भी दक्षिण तमिलनाडू के मदुरै नगर में होने वाला है!