नागपुर के कार्यक्रम में संघ के सह-सरकार्यवाह डॉ मनमोहन वैद्य व केन्द्रीय मन्त्री नितिन गडकरी
आज नागपुर में अर्थ एवं रोजगार सृजक सम्मान कार्यक्रम में परिवहन व एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी जी ने कहा की “मैंने अपने अधिकारियों को इंपोर्ट होने वाले सब सामान की लिस्ट बनाने को कहा है, और उन्हें स्पष्ट निर्देश दिया है की इंपोर्ट सब्सीट्यूट के नाते से हम यहां क्या-क्या बना सकते हैं, इसका तुरंत खाका तैयार करो!” उन्होंने कहा कि “7:50 लाख करोड़ का क्रूड ऑयल का आयात बिल हमें 2 लाख करोड़ तक लाना है।और इसके लिए बायोफ्यूल और इलेक्ट्रिक वाहन पर तुरंत जाना है।” उन्होंने कहा कि “नागपुर में मेरी इच्छा है कि अगले वर्ष तक ही सारी लोकल बसें व कारें बायोफ्यूल या इलेक्ट्रिक वाहन पर आ जाएं।” उन्होंने कहा कि “दत्तोपंत जी ने प्रेरणा देकर जिन कार्यकर्ताओं को बनाया उनमें मैं भी हूं।”
अपनी तरफ से उन्होंने भारत को चीन से भी बड़ा मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने का नक्शा व संकेत भी इसमें स्पष्ट रूप से रखा।
संघ के सह सरकार्यवाह डॉ मनमोहन वैद्य जी ने बोलते हुए कहा “स्वदेशी केवल वस्तुओं की खरीद फरोख्त ही नहीं, यह दृष्टिकोण भी है।उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा की वलसाड में कार्यक्रम था।ऊंचा झंडा लगाना था उसके लिए स्टील का बड़ा पाइप अहमदाबाद की मिल में तैयार कराकर, वहां पहुंचा। इससे जीडीपी तो बड़ी होगी, किंतु क्या वलसाड में जहां ऊंचे लंबे बांस पैदा होते ही हैं वहां के बांस को ही पोल बनाने की सोचना स्वदेशी दृष्टिकोण नहीं है क्या?”
अजय पत्की जी ने बोलते हुए कहा “देश भर में 325 से अधिक कार्यक्रम हो चुके हैं,2200 लोगों को सम्मानित किया जा चुका है।और हमने “रोजगार सृजन करना यह बड़ा काम है” यह वातावरण सारे देश में बनाने का प्रयत्न किया है।स्वदेशी स्वावलंबन के मूल मंत्र में से है डोंट बी जॉब सीकर, भी जॉब प्रोवाइडर। इस मंत्र को सार्थक करने को इस प्रकार के कार्यक्रम हम आगे भी करते रहेंगे।