देश में चल रही स्वदेशी गतिविधियां, कहीं चीन का विरोध,(अयोध्या)कहीं पदयात्रा(पूर्वी उत्तरप्रदेश)तो कहींस्वदेशी स्वीकार-चाइनीज़ बहिष्कार(आंध्र प्रदेश)
क्या आप जानते हैं कि—
*चीन से गत 5 मास में(अप्रैल से अगस्त) हमारा व्यापार घाटा आआधा रह गया है।यह 22.6 अरब डॉलर(2019)से कम होकर इस वर्ष 12.6 (2020 में)अरब का रह गया है।जो 2018में इसी अवधि में 23.5 अरब डालर था। ऐसा चीनी आयातों में कमी होने, सरकार द्वारा चीन के अनेक माल पर प्रतिबंध लगाने, के कारण हुआ है।
*दुनिया से भी भारत का व्यापार घाटा कम हुआ है।तेल की कीमतें स्थिर हैं।इससे भारत का वित्तीय घाटा, इस वर्ष कम रहेगा,जिसके कारण रुपैया मजबूत होगा अंतरराष्ट्रीय एजेंसियां भारत रेटिंग बढ़ाएंगे
*भारत का विदेशी मुद्रा भंडार $550 अरब पार कर गया है।यह सभी समय का सर्वोच्च अंक है।यानी दुनिया से लक्ष्मी हमारे रिजर्व बैंक में आ बैठी है।
*बेरोजगारी दर जो अगस्त में 8.35% थी, सितंबर में घटकर 6.67 रह गई है।फार्मा, एजुकेशन व एफएमसीजी सेक्टर में काफी रोजगार निकाले हैं।
*आईएमएफ (अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष)ने कहा है कि 2020 21 में भारत की ग्रोथ भले ही नेगेटिव रहे पर 2021 22 में यह 8.8% के साथ दुनिया में सबसे ऊंची रहेगी।
*इस सितम्बर में कारों की सेल पिछले साल के इसी महीने के मुकाबले 17% बढ़ी है,ऑटो सेक्टर में बढ़ोतरी बाकी सेक्टर को भी बढ़त की तरफ ले जाती है।
*कोरोना के नये केसों का इस सप्ताह का मध्यमान 63000 का है जबकि ठीक होने वालों का मध्यमान 71000 है।एक्टिव मरीज जो 17 सितंबर को 10,25लाख थे, आज 17 अक्टूबर को वह 8लाख से भी कम रह गए हैं।इससे भारत की इकोनामी के और सुदृढ़ होने की संभावना है।–अच्छे दिन आने वाले हैं?
दिवाली पर राम जी भी वापस आ रहे हैं, और लगता है लक्ष्मी जी भी- – -! जय हो!