No photo description available.

भारत में ही पूर्णतया स्वदेशी बनी ट्रेन-18 वंदेभारत,जो मैट्रो जैसी सुविधाओं से युक्त है व 160किमी प्रति घंटा दौड़ती है,परसों जब पहले ट्रैक पर निकली तो 200 किलोमीटर चलने के बाद खराब हो गई।दरअसल उसके आगे एक भैंस आ गई थी। इससे उसका कुछ सिस्टम खराब हो गया। किंतु राहुल गांधी ने इस मेड बाय इंडिया ट्रेन का मजाक उड़ाते हुए कहा “देख लो,अापका मेक इन इंडिया!यह फेल हो रहा है!”
विचित्र बात है! एक बड़ी पार्टी का नेता भारत में बनी स्वदेशी ट्रेन का इस प्रकार से मजाक उड़ा रहा है।जबकि वह केवल कुछ घंटों में ही ठीक कर दी गई और ट्रेन आगे चल पड़ी। उसके चीफ इंजीनियर ने भी कहा है कि “किसी भी नए प्रयोग में इस प्रकार की कठिनाई भारत में नहीं, दुनिया में भी आती हैं।”
और यह ठीक भी है रेलवे ने ना केवल यह फास्ट ट्रेन बनाई है! बल्कि डीजल इंजन को भी इलेक्ट्रिक इंजन में बदलने का दुनिया में कारनामा कर दिखाया है। हमें अपने स्वदेशी इंजीनियरों पर गर्व होना चाहिए। शुरुआत की छोटी मोटी कठिनाई आने पर मजाक उड़ाने का कोई कारण नहीं। चीन ने व्हाट्सएप व फेसबुक की जगह अपने ऐप चलाए उनके एप फेसबुक व व्हाट्सएप के मुकाबले में हल्के हैं। पर किसी चीनी ने मजाक नहीं उड़ाया। थोड़ा सहन कर भी उन्होंने अपने ही फेसबुक आदि चलाए हैं।
भारत के राजनेताओं को बीमारी है,स्वदेशी व भारतीय इंजीनियरों पर व्यंग्य करने की। पर उन्हें ध्यान रखना चाहिए जनता ऐसे नेताओं को माफ नहीं करती। अपना बच्चा चाहे थोड़ा कमजोर भी हो तो भी उसे शाबाशी देनी चाहिए। ना,की उसका अपमान करें। भगवान इन नेताओं को सद्बुद्धि दे।