नागपुर की धर्म सभा में माननीय मोहन जी भागवत, साध्वी रितंभरा व अन्य तथा दिल्ली में निकाली जा रही जन जागरण यात्रा!
प्रश्न:- लोकसभा चुनाव के निकट आते ही हर बार आप लोग मंदिर का मुद्दा क्यों उठाते हो? क्या वोट पाने के लिए?
उत्तर:- पिछले लोकसभा के चुनाव में विकास व भ्रष्टाचार ही प्रमुख मुद्दा था! गत तीन लोकसभा चुनावों से पूर्व मंदिर कोई मुद्दा था ही नहीं!
इस बार भी इसका चुनाव से कोई संबंध नहीं!यह सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनवाई ना होने पर कानून बनाने की मांग उठी है!
प्रश्न:- सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक आप लोग रुकते क्यों नहीं?
उत्तर:-यह केस बीसियों वर्षों से कोर्ट में है!इलाहाबाद हाई कोर्ट के यह निर्णय आने पर कि हां वहां मंदिर था, सुप्रीम कोर्ट को केवल अब अंतिम फैसला ही सुनाना था,पर अब उसने कह दिया है कि यह हमारी प्राथमिकता में ही नहीं है!
तो देश अब वर्षों तक प्रतीक्षा करे क्या?इसलिए पार्लियामेंट द्वारा कानून बनाकर मंदिर का मार्ग प्रशस्त करना ही केवल रास्ता है! जिसकी अपेक्षा सारा देश कर रहा है!
प्रश्न:- केंद्र, उत्तर प्रदेश सरकार में स्पष्ट बहुमत से आप की सरकार हैं!तो कानून बना ही क्यों नहीं देते? यह धर्म सभाएं करने की क्या जरूरत है?
उत्तर:- कानून बनाना उत्तर प्रदेश विधानसभा का काम नहीं है। संसद का काम है!और केवल भाजपा का काम नहीं है सारे देश के सभी सांसदों को मिलकर सर्व सम्मत तरीके से कानून बनाना चाहिए!
इसीलिए प्रबल जन जागरण है!
प्रश्न:-क्या आपको विश्वास है कानून बन जाएगा?
उत्तर:- हां हमें पूरा विश्वास है,की अगले दो-तीन महीनों में संसद के अंदर इसका बिल जरूर आएगा!
और कोई विरोध ना कर सके इसलिए देश भर में,हर लोकसभा क्षेत्र में धर्म सभाएं हो रही हैं!
हम सबको यह लगता है कि शीघ्र ही सारा देश व दुनिया का हिंदू समाज अपने स्वप्न साकार होते देखेगा! कि अयोध्या में एक भव्य श्री राम मंदिर शीघ्र ही अस्तित्व में आ जाएगा! जय श्री राम!!