जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे के साथ नीतीश कुमार,मनोहर जी व लुधियाना आर्य कालेज में मैं स्वयं
“सस्ता श्रम और ज्ञान से भरा युवक हमारी ताकत है”कल बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जापान में भारतीय दूतावास में एक सेमिनार को संबोधित करते हुए बोले! अपने युवाओं की श्रम शक्ति को अपनी ताकत समझना यह उत्तम दृष्टिकोण है! न की अपनी जनसंख्या को बोझ समझना! घर के बच्चे उस परिवार की ताकत होते हैं बोझ नहीं होते!तो हमारा युवा वर्ग हमारे भारत की ताकत है बोझ नहीं है!
मुझे लगता है कि ये दो मुख्यमंत्री बिहार के नीतीश कुमार व हरियाणा के मनोहर लाल,अपने अपने प्रदेशों में युवाओं को रोजगार युक्त करने,कृषि क्षेत्र में लगे किसानों की आय वृद्धि करने की सोच में बाकियों से आगे हैं!
गत दिनों हुए सूरजकुंड के मेले में मनोहर जी स्वयं पर्याप्त समय रहे! इससे पूर्व गीता जयंती मेले में छोटे कारीगरों और उद्योगों को बड़ी संख्या को बुलाया! इसी तरह चंडीगढ़ के स्वदेशी मेले में वे ना केवल 2 घंटे रहे बल्कि उन्होंने लघु उद्यमों को और रोजगार में उनके योगदान की भूरि-भूरि प्रशंसा की! और उस मेले के आयोजन में सहयोग की घोषणा भी की!
यदि इसी तरीके से सारा समाज भी इस रोजगार की समस्या को निपटाने में जुट जाए तो निश्चित रुप से हम अपनी युवा आबादी को इस देश को सिरमौर बनाने में तेजी से लगा सकते हैं…ठीक है न बात?
विश्व में गूंजे हमारी भारती, जन जन उतारे आरती!
धन्य देश महान, धन्य हिंदुस्तान….