गत वर्ष इन्ही दिनों में सिक्किम के दौरे पर जब हम ‘चाइनीज बहिष्कार’ के अभियान के प्रवास पर गए थे!उस समय का चित्र जो Facebook ने वर्ष का स्मरण कराते हुए भेजा है
यह भारत की पहली कंपनी है,जिसकी मार्केट वैल्यू 100 बिलियन डॉलर पार कर गई है!याने 6लाख 50 हज़ार करोड़ रूपए की कंपनी बन गयी है! यह पाकिस्तान की कुल अर्थव्यवस्था से भी बड़ी हो गई है!
1969 में प्रारंभ की गई टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज का गत एक तिमाही में ही 32000 करोड़ का मार्केट वैल्यू बड़ा है!
यह भारत की सबसे बड़ी रोजगार प्रदाता कंपनी भी बन गई है!इसमें कुल 46 देशों के सेंटर में 4लाख कर्मचारी काम करते हैं!बड़ी बात है कि इसके 35% कर्मचारी यह महिलाएं हैं!
आश्चर्यजनक है किंतु सत्य है,गत 50 वर्षों में इसके केवल 4 ही सीईओ रहे हैं!टाटा ग्रुप की कंपनियों का 85% मुनाफा केवल इसी एक कंपनी से ही आ रहा है!
उधर संयोग से आज ही Tata Safari गाड़ी को आर्मी से 3000 गाड़ियों का जो आर्डर मिला था उसकी डिलीवरी शुरू हुई है!पहले इसके स्थान पर Maruti Suzuki गाड़ियां आर्मी के पास थी!
भारत को जिन पर गर्व है उनमें से एक है टाटा ग्रुप की कंपनियां!हमको याद हो भारत में प्रथम स्टील निर्माता व शोधकर्ता भी Tata की ही कंपनी है जो प्रथम बार स्वामी विवेकानंद जी के जमशेद टाटा जी को दिए मार्गदर्शन के बाद प्रारंभ हुई थी!यह भी स्मरणीय है कि गत 100वर्षों में टाटा ने उद्योगिक जगत में बहुत ऊंचे मापदंड स्थापित किए हैं!
जब 2008 में मुंबई में पाकिस्तानी आतंकवादियों ने घटना की तो उस समय केवल अपने ताज होटल के कर्मचारियों के लिए ही नहीं,बल्कि उस समय पर जो भी घायल हुआ अथवा मारा गया उन सब की भरपूर सहायता टाटा ने की थी!
इसलिए भारत सेल्यूट करता है अपने इस कंपनी ग्रुप को,उसके योग्य निर्माता जमशेद टाटा से लेकर वर्तमान के प्रमुख रतन टाटा तक को!…’जय हिन्द’