70% companies subjected to cyber threat: Trishneet Arora, CEO, TAC Security

त्रिशनीत अरोड़ा

मुंबई का अद्भुत वर्ली सीलिंक याने समुद्र पर बना पुल

मुबंई प्रवास के अतिंम दिन University of Mumbai की एक क्लास में उद्यमिता व स्वरोज़गार पर बात करने गया! मैंने उन्हें लुधियाना के 24 वर्षीय त्रिशनीत अरोड़ा की कहानी बतायी-“वह केवल10 क्लास पढ़ा है घर भी सामान्य है पर कंम्पयूटर के काम में ग़ज़ब का जुनून है। अपना ख़राब हो गया लैपटॉप ठीक कराने गया तो दुकानदार से ही शुरूआती बारीकि समझी।फिर हैकिंग व उससे बचने के तरीक़े अपने मोबाईल पर ही दिनरात खोजे।पहले चंडीगढ़ की एक छोटी मीटिंग मे साइबर सिक्योरिटी पर प्रदर्शन दिया तो पंजाब पुलिस से अच्छा काम मिल गया फिर एक अहमदाबाद की एक कांफ्रेस जिसमें पूर्व वितमंत्री यशवंतसिन्हा भी थे, में ‘How to save sibercrime’ में प्रतिभा दिखाई।तो गुजरात पुलिस से काम का एक बड़ा आर्डर मिल गया!बस फिर तो उसने बक़ायदा इसे बैकों व बड़े कारपोरेट से काम लेने मे अपने को खपा दिया…आज मुंबई मे ही उसने बड़ा सा आफ़िस बना लिया है व इतनी छोटी उम्र मे ही करोड़पति बन गया है”… ऐसी ही एक-दो और कहानी बता मैंने उन्हें स्वरोज़गार हेतू आह्वान किया…दो घंटे के सत्र के बाद मैं निकलने लगा तो सामने बैठी लड़की पूरे जोश से बोली “सर आपने आज नौकर से मालिक बनने का रास्ता बता दिया..”उसके चेहरे पर आत्मविश्वास व कृतग्यता की झलक देख मैं भावुक हो गया….इस देश के लाखों युवक युवती सरकारी या कारपोरेट नौकरी के चक्कर मे अपनी अन्तर्निहित प्रतिभाओं को पहचान नहीं पाते…अन्यथा हमारे युवक युवती तो दुनिया के श्रेष्ठ अन्वेषक(innovater) हैं…