May be an image of 2 people and people sitting
दिल्ली स्वदेशी जागरण मंच कार्यालय से तरंग बैठकें
परसों रात कश्मीरी लाल जी और मैं आपस में बात कर रहे थे कि “देशभर में कोरोना का कहर तो जारी है। पर उससे समाज को निजात दिलाने के लिए वही पुराने सेवा के हाथ भी पूरी तरह से उठ खड़े हुए हैं, पैर चल पड़े है।”
मैंने कहा, “दिल्ली में सेवा भारती के माध्यम से आइसोलेशन सेंटर, ऑक्सीजन, दवाईयां, भोजन, पहुंचाने का कार्य चल रहा है।”
जब कल मैं हरियाणा के पानीपत व कुरुक्षेत्र पहुंचा तो एक तरंग बैठक में पता चला कि बड़ी मात्रा में सैनिटाइजर, मास्क बांटने की प्रक्रिया भी स्वयंसेवक शुरू कर चुके थे।
वैक्सीनेशन सेंटर, अस्पताल की बजाए, मंदिरों में, विद्यालयों में चलें, इसकी शुरुआत हो चुकी है। स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकर्ता हों या विचार परिवार के अन्य संगठन, हेल्पलाइन चल रहे हैं जिसमें दवाइयों से लेकर श्मशान घाट में संस्कार करने के सहयोग तक शामिल हैं। देशभर में सब तरफ फोन, तरंग बैठके हो रही हैं। गाड़ियां दौड़ रही हैं। चीजें मरीजों तक पहुंचाने का काम चल रहा है। कर्नाटक, उड़ीसा, बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश राजस्थान जिस प्रदेश में भी फोन किए, सब तरफ से यही समाचार मिल रहे हैं। “यहां हम यह कर रहे हैं, वह कार्य कर रहे हैं।”
स्वदेशी के कार्यालय से भी दिन रात फोन, संदेश, दवाई, ऑक्सीजन, भोजन की व्यवस्था हेतु हो रहे हैं।
उधर अमेरिका में भी सेवा इंटरनेशनल ने 50 लाख डॉलर इकट्ठे करने का संकल्प कर भारत में सहयोग भेजना शुरू कर दिया है।…”जीतेगा भारत..”
~सतीश कुमार