एक दौर था जब किसी से पूछा जाता था कि आप अपनी जिंदगी में बड़ा होकर क्या बनना चाहते हो तो ज्यादातर लोगों का जवाब डॉक्टर, इंजीनियर, वैज्ञानिक, शिक्षक जैसे ही कुछ गिने-चुने पदों में सिमटी रहती थी। लेकिन बदलते वक्त के साथ लोगों का रुझान अन्य क्षेत्रों की ओर भी बढ़ा। नई पीढ़ी के युवाओं के बीच तो स्टार्टअप का कीड़ा इतनी बुरी तरह पनप चुका है कि लोग इंजीनियरिंग और डॉक्टरी करने के बाद भी अपना खुद का स्टार्टअप ही शुरू करना चाहते।

आज हम ऐसे ही दो युवाओं की कहानी लेकर आए हैं जिन्होंने इंजीनियरिंग करने के बाद अपना स्टार्टअप शुरू करना चाहा और चाय बेचकर करोड़ों रुपये का टर्नओवर कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के अभिनव टंडन और प्रमीत शर्मा ने चाय की प्याली से ही एक बेहतरीन बिज़नेस आइडिया ढूंढ निकाला। इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद दोनों दोस्तों ने अपना ख़ुद का कारोबार शुरू करने की दिशा में कदम उठाते हुए नए-नए अवसर तलाशने शुरू कर दिए। और फिर “चाय कालिंग” नाम से एक रिटेल स्टोर की नींव रखी।

उन्होंने कुछ नया करने की चाह में चाय प्रेमियों की एक बड़ी समस्या को चुटकी में हल कर दिया। “चाय कालिंग” ग्राहकों को गर्मा-गरम चाय की डिलीवरी भी मुहैया कराता है।

प्रमित पेशे से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है जबकि अभिनव इलेक्ट्रिकल इंजीनियर। दोनों दोस्त बहुराष्ट्रीय कंपनियों में बड़े पैकेजों पर काम कर रहे थे। गौरतलब है कि इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान ये दोनों व्यापार पत्रिकाएं पढ़ा करते थे। उसी दौरान उन्होंने एक व्यवसाय खोलने का फैसला किया, लेकिन उनके पास ज्यादा पूंजी नहीं थी और इसलिए उन्होंने एक ऐसे व्यवसाय को खोलने का फैसला किया जिसमें कम निवेश के साथ रोजगार के ज्यादा अवसर मुहैया कराए जा सके।

अभिनव बताते हैं कि जब वे दोनों पढ़ाई करते थे या फिर नौकरी तो उन्हें सड़क विक्रेताओं से चाय का सेवन करना पड़ता था जो बेहद ही घटिया क्वालिटी के होते थे। और यहीं से उनके मन में चाय से संबंधित व्यापार शुरू करने का आइडिया मिला।

अपना कारोबार शुरू करने की चाह में पहले दोनों दोस्तों ने अपनी जॉब को अलविदा कहा और सपनों को पीछा करना शुरू कर दिए। दोनों ने अपने वेतन से बचाए एक लाख रूपये से नोइडा सेक्टर 16 मेट्रो स्टेशन के समीप अपनी पहली चाय की दुकान खोली।

ग्राहकों के सामने शुद्ध और गुणवत्तापूर्ण चाय परोस कम ही दिनों में उन्होंने हजारों लोगों को अपनी चाय का दीवाना बना लिया।

चाय की तेज़ी से होम डिलीवरी के लिए अभिनव और प्रमीत ने चाय ब्रिगेड नाम से एक नए कांसेप्ट को जन्म दिया, जो महज़ 15 मिनट के अंदर चाय की डिलीवरी कर देते हैं।

आज दोनों दोस्त मिलकर 10 से ज्यादा चाय स्टाल चला रहे हैं और आने वाले वक़्त में अन्य शहरों में भी अपने कारोबार का विस्तार करने की ओर तत्पर हैं। इन टी-स्टॉलों पर 15 किस्म की चाय मिलती हैं जिसकी कीमत 5 रुपए से लेकर 25 रुपए तक होती।

इतना ही नहीं कंपनी का सालाना टर्न ओवर करोड़ों रुपये है। अभिनव और प्रमीत चाहते तो अपनी अच्छी-खासी तनख्वाह वाली नौकरी करते हुए मौज भरी जिंदगी जी रहे होते लेकिन किसी के यहाँ नौकरी करने की बजाय खुद की काबिलियत से दूसरों के लिए रोजगार के अवसर मुहैया कराने में विश्वास रखते हुए उन्होंने अपनी नौकरी को छोड़ने की हिम्मत दिखाई और आज एक सफल स्टार्टअप के कर्ता-धर्ता हैं।

 

Story Credits: Kenfolios