59 चीनी ऐप को बैन करने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने शनिवार को स्टार्ट-अप तथा तकनीकी क्षेत्र के लोगों के लिए “भारत ऐप्स”  इनोवेशन चैलेंज शुरू किया है। मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉरमेशन टेक्नोलॉजी (MEITY) ने अटल इनोवेशन (Atal Innovation) के साथ साझेदारी में नीति आयोग ने डिजिटल इंडिया आत्मनिर्भर भारत इनोवेट चैलेंज शुरू किया है। पीएम मोदी ने भी इस चैलेंज को प्रमोट करते हुए ट्वीट किया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “आज टेक और स्टार्टअप कम्युनिटी में वर्ल्ड क्लास भारत ऐप बनाने का गजब का उत्साह है।”

पहला चरण शनिवार से शुरू हुआ है। इसके तहत पहले से इस्तेमाल हो रही ऐसी सर्वश्रेष्ठ भारतीय ऐप की पहचान की जाएगी, जिसमें अपने संबंधित क्षेत्र में वर्ल्ड क्लास ऐप बनने की क्षमता है। बयान में कहा गया है कि इनोवेशन चैलेंज के तहत कई नकद पुरस्कार और प्रोत्साहन दिए जाएंगे। पहला चरण एक महीना में पूरा होने की उम्मीद है।

इसके दूसरे चरण के तहत भारतीय स्टार्टअप्स, उद्यमियों और कंपनियों की पहचान करेगी। उन्हें विचार, इनकुबेशन, प्रोटोटाइपिंग तथा ऐप पेश करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। मंत्रालय ने कहा कि इस कार्यक्रम का दूसरा चरण अधिक लंबा चलेगा जिसका ब्योरा बाद में अलग से साझा किया जाएगा।

इस चैलेंज का फोकस 8 कैटेगरी में होगा। ये कैटेगरी हैं-सोशल नेटवर्किंग, ई-लर्निंग, मनोरंजन, स्वास्थ्य और वेलनेस, बिजनेस जिसमें एग्रीटेक, फिनटेक, समाचार और गेम्स। इनमें ही ऐप बनाने पर ध्यान दिया जाएगा।

MEITY ने Mygov वेबसाइट के जरिए आवेदन भेजने की आखिरी तारीख 18 जुलाई तय की है। बयान में कहा गया है कि निजी और अकादमिक क्षेत्र के विशेषज्ञों की ज्यूरी प्रविष्टियों का आकलन करेगी। छांटी गई ऐप को पुरस्कृत किया जाएगा और साथ ही नागरिकों को सूचना के लिए इन्हें लीडर बोर्ड पर भी डाला जाएगा।

 

Source Link: https://hindi.moneycontrol.com/news/country/govt-launches-innovation-challenge-for-bharat-apps-to-replace-tiktok-camscanner_236777.html