कामेगौड़ा (छवि: TNIE)

एक ओर जहां आज भारत के तमाम हिस्से पीने योग्य भूजल की अनुपलब्धता से परेशान हैं, वहीं कर्नाटक के एक 84 वर्षीय व्यक्ति ने अपने क्षेत्र में पीने के पानी के मुद्दे को हल करने के लिए 16 तालाब खोदे हैं। कामेगौड़ाएक कर्नाटक के मंड्या के दसाननडोडी गाँव के निवासी हैं, इस गाँव ने पिछले चार दशकों में पानी के संकट का सामना नहीं किया है।

कर्नाटक के ‘लेक मैन’ के रूप में विख्यात, कामेगौड़ा को हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सराहना मिली थी, जिन्होंने अपने ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम में उनका उल्लेख किया था। पीएम ने शो के दौरान कहा, “कामेगौड़ा जी एक साधारण किसान हैं, हालांकि उनके पास एक असाधारण व्यक्तित्व है। उन्होंने एक व्यक्तिगत उपलब्धि हासिल की है, जो किसी को भी अचरज में पड़ जाएगा।”

कामेगौड़ा, जो पुरस्कार की उम्मीद नहीं करते हैं, वह पीएम के शो में उनका उल्लेख करने से बहुत खुश थे। उन्होने कहा, “दिल्ली में किसी ने दसाननडोडी के एक व्यक्ति के काम को पहचाना। ऐसा लग रहा है कि मोदी भी मेरी तरह तालाबों के शौकीन हैं।” 2018 में राज्योत्सव पुरस्कार से सम्मानित होने के दौरान, उन्होंने विनम्रतापूर्वक तत्कालीन मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी नि: शुल्क बस पास की मांग की थी, जिससे वे अपने दूरदराज स्थित गाँव से अन्य स्थानों की यात्रा आसानी से कर सकें। लगभग दो हफ़्ते पहले, उनकी इच्छा पूरी हो गई जब कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम ने उन्हें मुफ्त आजीवन बस पास प्रदान किया।

गांव को जल संकट से बचाना चालीस साल पहले, दसाननडोडी जल की कमी से जूझ रहा था। पूरे वर्ष में गाँव में बहुत कम वर्षा हुई और अधिकांश बारिश का पानी या तो लुप्त हो गया, जबकि ढलान या जमीन में मिल गया। हालांकि, कामेगौड़ा के लिए कारण थोड़ा अलग थे।

उनकी बहू ने पहले द बेटर इंडिया को बताया, “पहाड़ी के किनारे अपनी भेड़ों को चराने के दौरान उन्होंने देखा कि जानवरों और पक्षियों के लिए पानी का कोई श्रोत नहीं था। करीब से निरीक्षण करने पर उन्होंने देखा कि जानवरों को कैसे नुकसान उठाना पड़ा। इसलिए उन्होंने उनके लिए एक तालाब खोदना शुरू कर दिया।”

कैमेगौड़ा ने नए उपकरणों की खरीद के लिए अपनी बचत का इस्तेमाल किया, अपनी भेड़ों को बेच दिया और तालाब की खुदाई के खर्चों को बनाए रखने के लिए अपना घर बनाना स्थगित कर दिया। वास्तव में, वह अभी भी हर एक दिन इन तालाबों में से किसी एक पर जाते हैं।

प्रेरणाश्रोत: कामेगौड़ा के प्रयासों से प्रेरित होकर कन्नड़ फिल्म निर्देशक दयाल पद्मनाभन एक डॉक्यूमेंट्री के साथ आ रहे हैं, जिसका शीर्षक है ‘द गुड शेफर्ड’। यह फिल्म ओटीटी प्लेटफार्मों पर कन्नड़ और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध होगी। दयाल ने द न्यू इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “मैं विभिन्न स्ट्रीमिंग प्लेटफार्मों पर एक डॉक्यूमेंट्री जारी करने की योजना बना रहा हूं।

मैं इसे राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय डॉक्यूमेंट्री समारोहों में भेजने की भी तैयारी करूंगा। मैं उनकी उपलब्धियों को दुनिया भर में पहुंचाने का इरादा रखता हूं।” जल संकट से निपटने में मदद करने के अलावा, कामेगौड़ा ने समय-समय पर पेड़ और झाड़ियाँ लगाकर इस क्षेत्र को हरा बनाए रखने के लिए बहुत प्रयास किए हैं।

Source Link