Image may contain: 2 people, people standing and food

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जी के साथ जगदीश पारीक जी।

सीकर (राजस्थान) के रहने वाले 70 वर्षीय किसान जगदीश पारीक बताते हैं कि,”पारिवारिक स्थिति के कारण मैं बचपन से ही किसान रहा। सुबह जल्दी उठ कर सब्जी बेचता फ़िर 10 बजे स्कूल जाता और 5 बजे स्कूल से वापस आकर अगली सुबह के लिए सब्जियों को तैयार करता था। सन् 1957 से लेकर 1970 तक मामा जी से खेती सीखी थी। मुझे एक बार ख़्याल आया कि सभी वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाते हैं, मैं भी बनाऊँगा। सन् 1995 में एक मित्र की सलाह पर सिर्फ़ गोभी पर काम करना शुरू किया। सन् 2001 में 11 किलो की गोभी के लिए लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज़ हुआ। सन् 2012 में कृषि मंत्री शरद कुमार जी से ‘किसान वैज्ञानिक’ की उपाधि प्राप्त की। अब अमेरिका के 27 किलो गोभी का रिकॉर्ड तोड़ना चाहता हूँ।”
पूर्व राष्ट्रपति डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम सहित 6 राष्ट्रपतियों से मिलकर गोभी भेंट कर चुके हैं।

इसी के साथ जगदीश पारीक देश के किसान भाइयों को भी कैमिकल युक्त आधुनिक जहरीली रसायन युक्त खेती की जगह जैविक खेती अपनाने के लिए प्रेरित करते हैं।
अपनी बात से वह अब तक कई किसानों को प्रेरित कर चुके हैं।
जगदीश पारीक ने अपना ख़ुद का बीज भी बनाया है जिसे उन्होंने “अजीतगढ़ सलेक्शन” नाम दिया। इससे नई किस्म की गोभी को उगाया जाता है। कीट प्रतिरोधक क्षमता रखने वाले बीज की ख़ास बात यह है कि ग्रीष्म ऋतु (मुख्य माह जून से अक्टूबर तक) में भी आप इस बीज को बो सकते हैं।
इसी के साथ जगदीश अपनी खाद भी ख़ुद तैयार करते हैं। गाय-भैंस के गोबर, नीम व आंकड़े के पत्ते जैसी चीजों का कम्पोस्ट बना कर वह अपनी खाद तैयार करते हैं।
~ स्वदेशी एजुकेटर चंडीगढ़