Image may contain: 1 person, sitting

Image may contain: 3 people, people standing

मध्य क्षेत्र की बैठक में कश्मीरी लाल जी, उधर गत दिनों अःभाः महिला समन्वय प्रमुख गीता ताई व अभाविप की छात्रा प्रमुख बहिन ममता यादव जब स्मृति ईरानी जी से मिलीं

परसों मैं जयपुर जा रहा था। डिब्बे में पहुंचा, तो एक अंग्रेज महिला, मेरी सीट पर बैठी थी। अंग्रेजी में ही बोली “मेरा वेटिंग कन्फर्म तो है।बट आई डोंट नो वेयर इज माय सीट?”
मैंने कहा “शो मी यू आर पीएनआर?”
पर जैसे ही उसने फोन का हाथ मेरी तरफ बढ़ाया तो मैं सावधान हुआ। मैंने पूछा “किस देश से हैं आप?” वह बोली “फ्राम इटली!” मैंने कहा ओके!”
उसे कुछ भी महसूस नहीं होने दिया और कहा कि अभी बताता हूं।

फिर मैंने तुरंत टीटी को ढूंढा और उसे कहा “इस महिला के कोई लक्षण तो वायरस के नहीं दिखते पर इटली की है। सनसनी भी नहीं फैलानी पर इसके साथ कोई और ना बैठे, इसका ध्यान रखो।” और “अजमेर उतरते ही इसकी जांच करने की बात आप स्टेशन मास्टर से कर लो!” क्योंकि इटली के ही 16 मरीज हमारे यहां हैं। वहां यह वायरस फैला हुआ है। टीटी समझदार था उसने किसी और को नहीं बताया और सब काम ठीक हो गया।

यही मेरा कहना है कि हमें सावधान तो रहना है पर डरना नहीं! फिर हमको पता रहना चाहिए कि यह वायरस इबोला व सार्स वायरस से कम खतरनाक है। 97% मरीज ठीक हो जाते हैं।
घरेलू और देसी नुस्खे बहुत अधिक इसमें कामयाब हैं। नींबू रस हाथ पर मलिए, गिलोय, काली मिर्च, दालचीनी आदि का काढ़ा, बीच-बीच में गर्म पानी पीना आदि, और भी पर्याप्त नुस्खे हैं। खामखाह में सैनिटाइजर, मास्क या महंगे कंपनियों के महंगे प्रयोग की बजाए यह ज्यादा कारगर हैं। मैं तो यही कर रहा हूं–सतीश कुमार
होली व अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं…