कोरोना पर विजय की ओर, भारत?

आज मेरी अपने क्षेत्र प्रचारक बनवीर जी से फोन पर बात हुई। वह कोरोना पॉजिटिव आए हैं। किंतु उन्होंने कहा “मैं कार्यालय पर ही हूं। और किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है। यहां से मैं फोन से बातचीत व बैठक भी ले रहा हूं।”

“कार्यालय पर बाकी लोगों का चेकअप कराया है क्या?” मैंने पूछा। तो उन्होंने कहा “हां! 10 में से 1 पॉजिटिव निकला है। किंतु वह भी मेरी तरह एक कमरे में ही आइसोलेट है। सब बातचीत हो रही हैं। आवश्यक सावधानियां हम रख ही रहे हैं। न किसी को कोई चिंता है न कोई कठिनाई।”

परसों ICMR की एक चौंकाने वाली पर सुखद रिपोर्ट आई है। देश के 10 बड़े नगरों में कराए गए 24000 लोगों के टेस्ट में पाया गया है कि हॉट स्पॉट के 30% लोगों को कोरोना हुआ और अपने आप ठीक भी हो गया।

फिर डॉक्टर बलदेव आयुष विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर ने तो बताया ही है की आयुर्वेद की सामान्य दवाइयों से केवल 5 से 7 दिन में ही मरीज ठीक हो रहे हैं।

भारत का रिकवरी रेट 50% पार कर गया है यानी अब एक्टिव केस कम (1,30,000) और ठीक हुए (नेगेटिव केस) 1,32,000 हो गए हैं। मृत्यु दर प्रति दस लाख तो भारत में दुनिया से में सबसे कम है ही।

मनोवैज्ञानिक रूप से भी अब भारत के लोग कोरोना को समझ गए हैं। लगता है भारत करोना पर विजय की ओर तेजी से बढ़ रहा है।

~सतीश कुमार