Image may contain: 2 people, people sitting

Image may contain: 11 people

Image may contain: 4 people, people sitting

चित्र में भव्य उद्घाटन के मंच पर वृजेश उपाध्याय जी, सुमित्रा ताई महाजन (पूर्व लोकसभा अध्यक्ष) व डॉक्टर मोहन भागवत और सामने बैठे श्रोता गण

कल नागपुर की उस पवित्र स्थली पर, जहां 1925 में डॉक्टर हेडगेवार ने हिंदू समाज का संगठन करने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रारंभ किया, ठीक उसी स्थल पर ही उसी साधना प्रक्रिया के एक अन्य ऋषि, श्रद्धेय दत्तोपंत ठेंगड़ी, जिन्होंने भारतीय मजदूर संघ, भारतीय किसान संघ व स्वदेशी जागरण मंच प्रारंभ किया, उनही का आज शताब्दी वर्ष शुरू हुआ।

सुमित्रा ताई महाजन जो इसकी समिति की अध्यक्षा है, ने कहां की “दत्तोपंत जी ने एक साथ संगठन,दार्शनिक, व आंदोलनकर्ता का काम किया।”
वहीं सरसंघचालक डॉक्टर मोहन भागवत ने कहा “जब दुनिया पूंजीवाद और साम्यवाद के विफल मॉडल से त्रस्त हुई, तब दत्तोपंत ठेंगड़ी जी ने तीसरा विकल्प सुझाया,… राष्ट्रवाद का, स्वदेशी का, विकेंद्रीकरण का..”

इस अवसर पर अपने डॉ रणजीत जी द्वारा बनाई गई दत्तोपंत ठेंगड़ी जीके समग्र पाठ्य सामग्री की वेबसाइट का भी शुभारंभ किया गया सरसंघचालक द्वारा इसके अतिरिक्त अमरनाथ डोगरा जी की पुस्तकों व एक भव्य प्रदर्शनी भी प्रारंभ की गई।
देशभर के इन प्रमुख संगठनों के प्रतिनिधि वहां उपस्थित थे। वर्षभर एक बड़े कार्यक्रम का संकल्प लेकर सब लोग अपने-अपने स्थानों को लौटे।