Image may contain: 5 people, outdoor
Image may contain: outdoor
बलिया जिला (उतरप्रदेश) के उसी स्मारक पर कार्यक्रम में कश्मीरी लाल जी, व अन्यों के साथ
अयोध्या में दीपोत्सव करने के पश्चात हम कल पूर्वी उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में महदेव-चितबड़ा गांव में स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मारक अनुसंधान एवं आरोग्य केंद्र पर पहुंचे।
दीपावली मनाने का एक अच्छा तरीका…कल 10 लोगों को स्वरोजगार के लिए दोना पत्तल और मिट्टी चक्का की मशीन निशुल्क वितरित की गई।
यद्यपि यह सरकार के ग्रामोद्योग विभाग की हैं, आयोजन स्वदेशी केंद्र ने किया है।
मैंने अजय उपाध्याय जी से कहा “इसकी कल्पना, और दृष्टिकोण बताइए?”
तो अजय उपाध्याय जी बोले “4 वर्ष पूर्व हमने यह प्रारंभ किया। पूरी तरह से गांव में यह स्थित है और ग्राम विकास, स्वरोजगार, स्वदेशी अभियान, इस सारे का यह प्रेरक केंद्र बन रहा है।
1 एकड़ से अधिक के क्षेत्र में मंदिर भी स्थित है। दत्तोपंत ठेंगड़ी भवन भी बनाया है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की आदमकद मूर्ति लगी है।तालाब है। विभिन्न प्रेरक वाक्य लगे हैं। सुंदर पार्क में स्मारक है। पूरे जिले ही नहीं प्रांत के लोगों का इसमें सहयोग मिल रहा है।”
मैंने पूछा “अभी तक बड़े अधिकारी कौन आए हैं?”
वह बोले “यहां के राज्यपाल रामनाईक व उपमुख्यमन्त्री केशव मौर्य आ चुके हैं। स्वदेशी के तो सभी अधिकारी आए ही हैं। परिवार संगठन के भी अनेक अधिकारी आए हैं।”
और कल जब कार्यक्रम में मैंने उपस्थिति देखी तो मैं गर्व से कह सकता हूं कि वास्तव में इस क्षेत्र में यह केंद्र स्वदेशी का एक प्रेरणा स्रोत के नाते से उभर रहा है।
~सतीश कुमार