Image may contain: 1 person

सारे देश में पूर्व रक्षामंत्री व गोवा के मुख्यमंत्री जिन का कल देहांत हो गया, उनके बारे में चर्चा है।
और उसका प्रमुख कारण है, कि एक राजनीतिज्ञ को कैसा होना चाहिए? इसका भारतीय राजनीति में वह एक मानदंड बन गए हैं।
मुंबई आईआईटी के इंजीनियर, देश दुनिया की राजनीति के माहिर,ईमानदार, मनोहर को कई लोगों ने स्कूटर पर मुख्यमंत्री कार्यालय पर जाते हुए देखा है। अपने बेटे की शादी में भी आधी बाजू की शर्ट पहन कर लोगों से बधाई लेते हुए सब ने देखा है।
शायद ही कोई ऐसा मुख्यमंत्री हो जो अपने चपरासी के साथ बेंच पर बैठकर चाय पी लेता हो, भोजन कर लेता हो। जो भी एक उच्च स्तर हो सकता है मनोहर पारिकर में वह सब दिखता रहा।

कैंसर की बीमारी से पीड़ित हो,नाक में नली लगी हो और फिर भी प्रदेश का बजट प्रस्तुत किया और जब विधानसभा से निकले और पत्रकार ने पूछा कैसा लग रहा है?.. तो बोले हाउ इज द जोश? हाई सर!
यही है जिंदगी…. मौत दस्तक दे रही हो,फिर भी हंसते हुए, सहज ढंग से कर्म पथ पर कैसे बढ़ते हैं…कोई देखे मनोहर पारिकर को।
यही कारण है कि एक छोटे से प्रदेश के मुख्यमंत्री होने के बावजूद सारी देश और दुनिया में उनकी चर्चा हो रही है। उनकी प्रेरणा स्पद जीवन के संस्मरण सुनाए जा रहे हैं…लो श्रद्धांजलि राष्ट्र पुरुष!