Kangana Ranaut didn't spoil Manikarnika much: Director Krish

कंगना रनौत आजकल मीडिया में छाई हुई है। कारण है उसने बॉलीवुड के अंदर वर्षों से बैठी गंदगी को लोगों को सामने दिखाया है।
कल रिपब्लिक टीवी में अर्णव गोस्वामी को इंटरव्यू देते हुए उसने नसरुद्दीन शाह, महेश भट्ट, जावेद अख्तर आदि के हिंदुत्व विरोधी एजेंडा को फिल्मों के माध्यम से भारत की जनता को दिखाने का आरोप ही नहीं लगाया, बल्कि उसकी बातों में देश को सच्चाई दिख रही है।

वास्तव में हमारी फिल्म इंडस्ट्री पिछले पचास साठ साल से सेकुलरी मानसिकता की है। जिसमें हिंदू संत को, पंडित को, हिंदू धर्म को विलेन दिखाना, निर्दयी व नकारात्मक भूमिका में दिखाना व ईसाई पादरी को मौलवी को, इस्लाम को बहुत ही दया भाव व उच्च स्तर का दिखाना यह सरेआम हो गया था।

सारे देश को यह कचोटता तो था पर बोलता कोई नहीं था। कंगना रनौत ने यह हिम्मत दिखाई है। बकायदा नाम ले लेकर उसने इन सब की पोल खोल दी है। इसके कारण कंगना रनौत का अभिनंदन तो होना ही चाहिए।

कंगना रनौत अपनी फिल्म मणिकर्णिका से प्रसिद्ध हुई। जिसमें उसने झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का रोल अदा किया है। झांसी की रानी ने उस समय भी अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी, अभी कंगना ने अंग्रेजी सेकुलरी मानसिकता वाली फिल्म इंडस्ट्री के खिलाफ लड़ाई छेड़ी है।

शाबाश, स्वागत है! चलो हम भी देखें,आगे क्या क्या सीन आते हैं…एक बात तो पक्की दिख रही है की फिल्म इंडस्ट्री को अब सुधरना पड़ेगा और अपना हिंदुत्व विरोधी एजेंडा छोड़ना पड़ेगा…जय हो!

~सतीश कुमार