आज मेरी व कश्मीरी लाल जी की केरल के प्रांत संयोजक व प्रांत संगठक से वीडियो कॉल पर बातचीत हुई। उन्होंने बताया कि परिवार संगठनों के सहयोग से वहां 3000 से अधिक स्थानों पर न्यूनतम एक लाख परिवारों द्वारा स्वदेशी संकल्प (सायं 6:30 से 6:40) कार्यक्रम का आयोजन होगा।

सारे देश से ऐसे ही समाचार आ रहे हैं! दरअसल इस संकल्प दिवस के मुद्दे इस देश के जनमानस को छू गए हैं।
कोरोना वायरस से मुक्ति के लिए प्रार्थना वैसे भी हर कोई कर रहा है। इससे जो अर्थव्यवस्था व रोजगार को नुकसान पहुंचा है, उसको हम स्वदेशी दृष्टिकोण, लघु उद्यमों, प्राकृतिक कृषि को प्रोत्साहन देकर व स्थानीय खरीदो-स्वदेशी खरीदो के उद्घोष से ही ठीक कर सकते हैं।

फिर अपने शरीर की प्रतिरोधी क्षमता को बनाए रखने के लिए आयुर्वेदिक काढ़े, गर्म पानी पीने आदि की बात इस समय कौन नहीं कर रहा?
और सब के मन में स्पष्ट है कि इस वैश्विक महामारी का मूल उद्गम चीन, यह सारी दुनिया को परेशान कर रहा है। इसलिए उसकी वस्तुओं का बहिष्कार यह भी सबके मन में है ही।
{सभी भारतीयों से एक निवेदन- कल 25 अप्रैल को सायं 6:30 से 6:40 तक अपने घर मे ही एकत्र आएं व स्वदेशी उपयोग करने व चाइनीज बहिष्कार करने का निश्चय करें}
~ सतीश कुमार