आज होटल क्लेरीज,दिल्ली में एक तरफ थे-स्वदेशी जागरण मंच,भारतीय मजदूर संघ व CEPR के कश्मीरी लाल जी, डॉ अश्विनी महाजन, मै स्वयं,डॉक्टर सुभाष,अनिलेश महाजन व पवन जी तो दूसरी तरफ थे मल्टीनेशनल कंपनियों बोइंग के साउथ एशिया हेड प्रत्यूष, Alstrom के एशिया पैसिफिक हैड भरत सल्होत्रा,Crisil के डी के जोशी! तो तीसरी तरफ प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार समिति के सदस्य डा:विवेक देबरॉय, राज्यसभा सदस्य श्वेत मलिक,नेशनल स्किल डेवलपमेंट काउंसिल के CEO डा:मनीष और इसी तरह सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स आर के त्यागी, Indian oil corporation के पूर्व सचिव mr. Bhutola और अन्य!
सभी का एक ही चिंतन भारत पूर्णतया रोजगार युक्त कैसे हो? डॉ विवेक देबराय का कहना था कि “जॉब्स नहीं एंप्लॉयमेंट यह चर्चा का केंद्र बिंदु होना चाहिए” अर्थात नौकरियां नहीं रोजगार और वह भी गुणवत्ता का!
बाद में French multinational के भरत सल्होत्रा ने मेरे को कहा “मैं बहुत से इस प्रकार की डिबेट,सेमिनार में जाता हूं,किंतु जितनी सार्थक और सजीव चर्चा और लगातार 4 घंटे तक चर्चा,आज हुई ऐसी मैंने कभी देखी नहीं” एक बड़े खुले चिंतन में और आगे की दिशा लेकर और भारत को पूर्ण रोजगारयुक्त करने का संकल्प लेकर यह चर्चा पूर्ण हुई…नीचे चित्र में फ़्रेंच कंपनी एलसटर्म के भरत सलोत्रा,su-kamके कुँवर सचदेवा व डा:अश्वनी जौहर के साथ भोजन के समय गपशप..