Image may contain: 1 person

Image may contain: 3 people, people standing, sky and outdoor

Image may contain: 1 person, standing, ocean, sky, cloud, bridge, outdoor, nature and water

Image may contain: tree, plant, bird and outdoor

Image may contain: ocean, sky, cloud, twilight, outdoor, nature and water

Image may contain: one or more people, ocean, sky, outdoor, nature and water

Image may contain: ocean, sky, cloud, beach, outdoor, nature and water

गत दिनों, प्रकृति के संपर्क के ऐसे ही विभिन्न फोटो, स्वदेशी चिट्ठी के पाठकों के लिए

*4 दिन पूर्व मैं कन्याकुमारी गया। वहां सवेरे के समय समुद्र के किनारे सूर्योदय देखा। वे 45 मिनट शायद कई वर्षों में, सबसे आनंद के मिनट थे।
* वापसी पर वहां पर चहकते हुए मोर को देखा, किसी फिल्म की क्लिप, देखने से कम नहीं था वह दृश्य! *विवेकानंद स्मारक पर एक बच्चा मिला। उसको उठाया, तन-मन भाव विभोर हो गया।
*परसों सवेरे 6:00 बजे एक कार्यकर्ता मुझे दिल्ली में कार में ले जाने लगा। उसने A.C. चलाया तो मैंने उसे कहा “इसको बंद करो, और शीशे नीचे उतारो।” जो सवेरे की मीठी सुहानी हवा आई तो वह मेरी तरफ देखने लगा। वास्तव में इस प्राकृतिक A.C. का आनंद उससे छूट रहा था।
*परसों हम स्वदेशी की महिला प्रमुख के यहां पर भोजन करने गए। उसने कहा कि यह प्राकृतिक आटे (बिना रासायनिक या जैविक खाद के) की रोटियां हैं वास्तव में अब तक की सबसे आनंदित करने वाला भोजन (रोटियां) था।
*आज सवेरे मैंने कार्यालय की छत पर चढ़कर पेड़ों और उन पर बैठे और फिर उड़ते कबूतरों को देखा…महान आनंद के क्षण!
* वास्तव में आज की भागा दौड़ी में, हम लोग प्रकृति से दूर हो बैठे हैं। जरा प्रकृति के संपर्क में जाकर देखो! मन तो आनंदित हो ही जाएगा, तन भी स्वस्थ और प्रसन्न रहेगा।न दवाइयों की जरूरत होगी न तनाव आएगा। सारा दिन काम में भी अच्छा मन लगेगा सफलता भी मिलेगी। जरा प्रकृति का संपर्क और उपयोग करके तो देखो..! दीपावली की भेंट व शुभकामनाएं।