गत 26 तारीख को सरकार ने ई-कॉमर्स पर नीति में संशोधन प्रसारित किया है।
इसके कारण से अब अमेजॉन और फ्लिपकार्ट जैसी ई-कॉमर्स कि विदेशी कंपनियां,मनमानी लूट नहीं कर सकेंगी। उनके डीप डिस्काउंट देने, बड़ी छूट देकर छोटे दुकानदारों का व्यापार खींचने और अपनी ही कंपनियों को प्रमोशन करने की, सब प्रकार की गलत नीतियों को पूरी तरह से अवैध घोषित कर दिया गया है।
इससे यह कंपनियां, जो अपने को घाटे में रखकर भी (कैश बर्निंग मॉडल) से व्यापार अपनी तरफ खींच रही थीं, वह गोरखधंधा पूरी तरह से बंद हो जाएगा।
गत चार-पांच वर्षों से CAIT(Confederation of All India traders)और स्वदेशी जागरण मंच जिस काम के लिए बहुत प्रयासरत थे, उसमें अब जाकर सफलता मिली है।
देश के चार करोड़ छोटे दुकानदारों की सेल(offline) जो गत कुछ वर्षों में 20-25%तक कम हो गई थी, वह अब ठीक हो जाएगी।
यह देश की,स्वदेशी विचारों की व छोटे दुकानदारों की दिवाली का समय है।
जय स्वदेशी..जय भारत!