Image may contain: 2 people

Image may contain: one or more people and crowd

“हां!मैं भी हूं स्वदेशी जागरण मंच का कार्यकर्ता”~रेल व वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल।
कल से लखनऊ से 80 किलोमीटर दूर नैमिषारण्य तीर्थ नगरी में स्वदेशी जागरण मंच का उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश क्षेत्र का राष्ट्रीय विचार वर्ग चल रहा है।
इस देश का उपयुक्त विकास मॉडल कौन सा हो? व्यवहारिक रूप से स्वदेशी आंदोलन कैसे आगे बढ़े? भारत को भारत कहो -इंडिया नहीं कि समाज में स्वीकार्यता का मार्ग क्या हो? विश्व व्यापार युद्ध की क्या स्थिति है? आदि मुद्दों के ऊपर गहराई से चिंतन मंथन में शामिल हैं स्वदेशी के पदाधिकारियों के अलावा विभिन्न आईआईटी व विश्वविद्यालयों के प्रोफेसर।
इस दो दिवसीय विचार वर्ग का उद्घाटन किया उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष श्री हरिनारायण दीक्षित जी ने, व एक सत्र में उत्तरप्रदेश की बेसिक शिक्षा मंत्री भी शामिल हुईं।
सभी ने एक ही स्वर में कहा “स्वदेशी है वर्तमान की आवश्यकता!”
संयोग से इसी वर्ग में जिक्र आया की 4 दिन पूर्व भारत के रेल व वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल जी ने राज्यसभा के पटल पर विधिवत रूप से घोषणा की “मैं भी स्वदेशी जागरण मंच का कार्य करता हूं।और स्वदेशी जागरण मंच ने भारतीय अर्थशास्त्र को और विशेषकर लघु कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने व रोजगार वृद्धि में बड़ी भूमिका निभाई है। जय हो!