Image may contain: 3 people, people sitting

Image may contain: 9 people, people standing and outdoor

स्वदेशी जागरण मंच की गत कार्यसमिति मे मंच पर राष्ट्रीय संयोजक अरुण ओझा जी,संगठक कश्मीरी लाल जी,सहसंयोजक डाःअश्वनी महाजन, अजय पत्की व धनपत राम जी। और कार्यकर्ताओं द्वारा RCEP का विरोध प्रदर्शन

आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी!
सादर प्रणाम! आपने कल बैंकॉक में आरसेप समझौते को निरस्त कर भारत को एक बड़ी विजय दिलाई है। इसके कारण से देश के छोटे उद्योगों, मजदूरों,किसानों को बहुत बड़ी राहत मिली है। सारा देश प्रसन्न है कि आपने एक ऐतिहासिक व बड़ा निर्णय लिया है।
हम स्वदेशी के कार्यकर्ता भी आपका बहुत-बहुत अभिनंदन करते हैं।

स्वदेशी जागरण मंच इस समझौते का 1 वर्ष से विरोध कर रहा था। यह ठीक है कि यह समझौते की प्रक्रिया 2012 में कांग्रेस ने शुरू की थी,किंतु स्वदेशी प्रेमी जनता व किसान,मजदूर गरीब इस बात से थोड़ा चिंतित था कि आपके होते हुए भी कैसे इस समझौते पर सरकार लगातार आगे बढ़ रही है?

इसलिए स्वदेशी जागरण मंच ने इस विषय पर देशभर में एक जन जागरण शुरू किया। सारे देश में गोष्ठियों पत्रक, बैठकें, ज्ञापन, प्रदर्शन इत्यादि हुए। संवाद वार्ताओं का दौर भी चला। अंततः आपने स्वदेशी जागरण मंच के इस विषय को गंभीरता से लिया जोकि देश के आर्थिक हित का सीधा सीधा मामला है। और इस पर एक निर्णायक फैसला ले लिया हम जानते हैं कि ना केवल चीन का बड़ा आग्रह था बल्कि मित्र देशों जैसे वियतनाम इंडोनेशिया ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड यहां तक कि जापान का भी आग्रह था कि 16 देशों के इस समझौते की वार्ताओं को,जो 6 वर्ष चली हैं उन्हें आप मान लें।

एक तरफ दुनिया के मित्र,अमित्र 15 देशों का समूह था। एक तरफ स्वदेशी जागरण मंच के नेतृत्व में भारत के किसान मजदूर लघु उद्यमी व आर्थिक जगत के हितेषी लोग थे, आपने देश का हित सामने रखा और कल इसकी घोषणा करते हुए आपने ऐतिहासिक शब्द भी बोले “गांधी जी का जन्तर और मेरी व्यक्तिगत आत्मा इसकी अनुमति नहीं देता।”

इसलिए देश भर के हम स्वदेशी के कार्यकर्ता और दुनियाभर में फैले लाखों-करोड़ों स्वदेशी समर्थक आपका बहुत-बहुत अभिनंदन करते हैं। वास्तव में यह चीन के ऊपर एक आर्थिक एयर स्ट्राइक जैसा मामला ही है।आप साहसी फैसले लेने के माहिर हैं।देश हित में आगे भी आप स्वदेशी के मुद्दों को ऐसे ही आगे बढ़ाते रहेंगे ऐसी हमारा अपेक्षा है।~ आपका- सतीश.कुमार