पूना के कार्यकर्ताओं के साथ एक बैठक में! स्वामी विवेकानंद, हेमंत गायकवाड़!
आज मैं पुणे में हूँ! वहां संघ के एक अखिल भारतीय अधिकारी के निवास पर मिलने हेतू गया! जब मैने उनसे रोज़गार देने वाले कुछ लोगों की सक्सेस स्टोरी की चर्चा की तो वो कहने लगे “सतीश जी!आपको पता है कि यहाँ पुणे के एक सामान्य लड़के ने भी बहूत ज़बर्दस्त काम किया है?”
मैंने पूछा “वो कौन है?”
तब उन्होंने बताया “उसका नाम हेमन्त गायकवाड है! वह मूलत: सतारा ज़िले के रहमतपूरा गाँव का है! और वह पुणे में आकर परिवार सहित एक कमरे के छोटे से घर में रहता था!”
फिर मैने गूगल से उसकी सारी स्टोरी निकाली!
इसने डिप्लोमा किया उसी दौरान पिताजी की मृत्यु हो गई!किसी तरह इंजीनियरिंग की!उसके लिए भी इसने ट्युशन पढ़ाई और गली बनाने का काम किया!
फिर 1997 में इसकी टाटा मोटर्स में इंजीनियर के नाते से नौकरी लग गई!
विवेकानंद का यह भक्त था! और उन्हीं की प्रेरणा से इसने भारत विकास प्रतिष्ठान शुरू किया!जिससे कुछ लड़कों की पढ़ाई व उन्हें रोज़गार दिलाने में सहायता की!
गाँव के लड़के इसके पास आते और नौकरी की माँग करते! इसने टेल्को के मैनेजर को मना लिया कि वह अपने भारत विकास ग्रुप में आठ लड़कों को नौकरी देगा!और लड़के वहाँ पर सफ़ाई और छोटे मोटे काम करेंगे!वहाँ के अधिकारी सहमत हो गए!
2 वर्ष बाद इसकी विश्वसनीयता व मेहनत से प्रभावित होकर टाटा फाइनांस ने 60 लाख रुपये,इसके भारत विकास ग्रुप ट्रस्ट को लोन दे दिया,ताकि यह और अधिक लड़कों को नौकरी दे सके!
इसने हाउसकीपिंग,सफ़ाई व ढुलाई के काम शुरू कर दिए! तीन साल बाद नौकरी छोड़कर यह स्वयं भी पूरी तरह लग गया!और अब इसकी कंपनी में कोई 40 लड़के काम कर रहे थे! ज़्यादातर इसके गाँव या पड़ोस के गाँव के ही थे!
हिम्मत,मेहनत,ईमानदारी व सूझबूझ के कारण यह ग्रुप एक बड़ी कंपनी में बदल गया! रेलवे स्टेशन,बसअड्डे व बड़ी कंपनियों के हाउसकीपिंग के कांट्रैक्ट मिलने लग गए!और आज वह भारत ही नहीं दुनिया में 1 बड़ा नाम बन गया है!
राष्ट्रपति भवन प्रधानमंत्री कार्यालय तक की हाउसकीपिंग का काम अब इसकी कम्पनी को मिला हुआ है!
पिचहत्तर हज़ार लोग अब इसकी कंपनी में काम करते हैं!वह भारत की हाउसकीपिंग,सफ़ाई,रखरखाव की सबसे बड़ी कंपनी बन गई है !2000करोड़ रुपये का इसका सालाना टर्नओवर है!
स्वामी विवेकानंद प्रेरित,प्रतिदिन पूजा पाठ करने वाला दो बच्चियों का पिता 46 वर्षीय हेमन्त आज के युवा उद्यमियों के लिए एक प्रेरणा व केस स्टडी भी है!